आज विश्व बंदर दिवस है यानी वर्ल्ड मंकी डे, 14 दिसंबर को दुनिया भर के 15 देश मनाते हैं

आपको शायद यह नहीं पता होगा कि दुनिया भर के 15 देश 14 दिसंबर को विश्व बंदर दिवस मनाते हैं यानी वर्ल्ड मंकी डे इस दिवस की शुरुआत 14 दिसंबर सन 2000 को अमेरिका के रहने वाले 2 छात्रों ने की थी जिनमें 1 थे कीजि सोरों और दूसरे थे एरिक मिल्क अन 2 छात्रों ने पशु प्रेम को दर्शाते हुए इस दिवस की शुरुआत की थी

0
99

यूं तो बंदर की बात की जाए तो हिंदू धर्म में कोई इससे हनुमान जी का स्वरुप मानता है तो कोई इसे मात्र एक जीव मानता है यदि हम बंदर की बात करें तो मथुरा वृंदावन के लिए यह बंदर जी का जंजाल बन चुके हैं|

लेकिन सबसे हटकर हम बात करें तो आपको शायद यह नहीं पता होगा कि दुनिया भर के 15 देश 14 दिसंबर को विश्व बंदर दिवस मनाते हैं यानी वर्ल्ड मंकी डे इस दिवस की शुरुआत 14 दिसंबर सन 2000 को अमेरिका के रहने वाले 2 छात्रों ने की थी जिनमें 1 थे कीजि सोरों और दूसरे थे एरिक मिल्क अन 2 छात्रों ने पशु प्रेम को दर्शाते हुए इस दिवस की शुरुआत की थी अब हम आपको बता दें कि बंदरों का भी एक अपना इतिहास अपना अलग कल्चर है ।बंदरों को दो हिस्सों में बांटा गया है जो अफ्रीका और एशिया में रहते हैं वह पुराने बंदर हैं,और जो दक्षिण अमेरिका में रहते हैं वह नए बंदर हैं|

बंदर की दांतो की संख्या 36 होती है बंदरों की 264 प्रजातियां वर्तमान में विश्व में है इनमें सबसे ज्यादा ब्राजील में पाई जाती हैंं कमाल की बात यह है कि सभी बंदरों के पास अपना खुद का फिंगरप्रिंट होता है|अंतरिक्ष में जाने वाला पहला बंदर अल्बर्ट था जो साल 1949 में पृथ्वी से83मील की ऊंचाई पर था,यानी हम कह सकते हैं कि इंसान से पहले बंदर अंतरिक्ष पर जा पहुंचा |

दुनिया के सबसे बड़े बंदर का नाम मैनसिल है जिसका वजन 35 किलो और लंबाई 3:30 फुट है इसके साथ हम बात करें तो दुनिया का सबसे छोटा बंदरं मेहर मोस्ट है जिसकी लंबाई 4 इंच है और वजन ताश की गड्डी के बराबर है यानी मात्र सौ ग्राम बंदरों के बारे में बातचीत करें तो बंदरों का आईक्यू लेवल 174 होता है यानि यह गिनती भी लिख सकते हैं और गिन सकते हैं बंदरों को ज्यादातर मनुष्य का पूर्वज इसलिए कहा जाता है क्योंकि 98 प्रतिशत डीएनए मनुष्य और बंदर का मिलता है|

मादा बंदर अपने गर्भ में 134 दिन से 237 दिन तक गर्भ रखती है बन्दर की उम्र 10 से 50 साल बताई जाती है बंदरों की प्रजाति में केपिटल बंदर सबसे होशियार जाति का होता है ,और पत्थरों से अखरोट को तोड़कर खा सकता है साथ ही एक लंबे डंडे के माध्यम से सांप को पीट सकता है।

कहने को आप इसे भले ही मजाक समझे लेकिन दुनिया भर के 15 देश वर्ल्ड मंकी डे फेस्टिवल मनाएंगे बंदर भले ही वर्तमान में मनुष्य के जीवन में दखलअंदाजी कर रहे हो लेकिन यह भी सत्य है कि मनुष्यों ने भी आधुनिकता की होड़ में जंगलो का विनाश कर दिया इसी का परिणाम है कि इंसानों का मित्र कहा जाने वाला बंदर आज लोगों को दुश्मन नजर आता हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here