अरबों की आमदनी वाले बिहारी जी प्रबंध समिति के भोग के लिए तरसे

0
265

अरुण यादव/सुभाष गोस्वामी
वृंदावन मथुरा 23 दिसंबर।
आपको यह जानकर हैरानी होगी कि विश्व प्रसिद्ध ठाकुर श्री बांके बिहारी जी महाराज को मंदिर प्रबंध समिति की ओर से लगने वाला भोग पिछले करीब डेढ़ साल से बंद है। इसकी ओर न तो मंदिर के प्रशासक का ध्यान है और न ही सेवायत गोस्वामियों को कोई चिंता है।

बिहारी जी के भोग की तो व्यवस्था वर्ष 2013 में प्रबंध कमेटी द्वारा शुरू की गई थी, जिसके तत्कालीन अध्यक्ष नंदकिशोर उपमन्यु थे। उनकी कमेटी का कार्यकाल वर्ष 2016 में समाप्त होने तथा नवीन कमेटी बनते ही उसके अधिकार सीज किये जाने के जाने के बाद से मंदिर फंड से लगने वाला भोग आज तक बंद है। ऐसे में ठाकुरजी को अर्पित किए जाने वाले भोग की व्यवस्था उस गोस्वामी परिवार की ओर से की जाती है, जिसकी सेवा चल रही हो जबकि दूसरी व्यवस्था करीब सौ साल से चली आ रही परंपरा के अनुसार लाला हरगुलाल बेरीवाल की हवेली की तरफ से आने वाले भोग से होती है।

गौर करने वाली बात यह है कि जिस मंदिर की प्रति माह आमदनी करीब एक करोड़ रुपए है तथा 1 दर्जन से अधिक बैंक खातों में 100 करोड़ से अधिक की धनराशि जमा है। इसके बावजूद मंदिर फंड की ओर से ठाकुर जी और भक्तों को प्रसाद तक नहीं मिल पा रहा है।

इस सम्बन्ध में जब मन्दिर के उप प्रबंधक उमेश सारस्वत से जानकारी की गयी तो उन्होंने बताया कि ठाकुरजी का भोग तो लग रहा है, केवल कमेटी की ओर से बन्द है।

मन्दिर के सेवायत मयंक गोस्वामी ने बताया कि हरगुलाल की हवेली से ठाकुरजी के लिये आने वाले भोग में से गोस्वामी के हिस्से का भोग बंटवा दिया जाता है, जिससे भक्तजन भी भोग से वंचित न रहें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here