पिच फिक्सिंग पर ‘आजतक’ के खुलासे के बाद क्यूरेटर पर गाज, लेकिन होगा पुणे वनडे

0
37

भारत और न्यूजीलैंड के बीच पुणे वनडे पर संशय के जो बादल मंडरा रहे थे वो छंट गए हैं. आजतक के पिच फिक्सिंग पर खुलासे को लेकर क्रिकेट जगत में हड़कंप मच गया है. खुलासे के बाद पिच क्यूरेटर पांडुरंग सलगांवकर को पुणे वनडे से हटा दिया गया था, जिसके बाद बीसीसीआई के क्यूरेटर ने पिच की जांच की.

उन्होंने अपनी जांच में पिच को बिल्कुल ठीक पाया है. बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना का कहना है कि भारत और न्यूजीलैंड के बीच मैच जरूर होगा.

कैमरे पर क्या बोला पिच क्यूरेटर?

‘आज तक’ के कैमरे में पुणे के पिच क्यूरेटर पांडुरंग सलगांवकर ने पिच की तैयारी को लेकर गोपनीय जानकारी कैमरे के सामने उजागर की. रिपोर्टर ने पिच क्यूरेटर से अपने दो प्लेयरों के लिए पिच में कुछ बदलाव के लिए कहा, जिसपर पांडुरंग एक दम राजी हो गए. पिच क्यूरेटर ने कहा कि जो पिच हमने तैयार की है, उसपर 337 रनों तक का स्कोर हो सकता है. जिसे आराम से चेज़ किया जा सकता है.

रिपोर्टर के कहने पर पांडुरंग उसे पिच दिखाने को भी राजी हो गए, जबकि नियम के अनुसार पिच पर कप्तान और कोच के अलावा मैच से पहले कोई नहीं जा सकता है. वहीं पिच क्यूरेटर ने कहा कि वह कुछ ही मिनटों में ही पिच का मिजाज बदल सकते हैं. उन्होंने पिच पर कील वाले जूते पहनकर जाने की भी इजाजत दी.

टीम इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच 3 मैचों की वनडे सीरीज का दूसरा मुकाबला आज दोपहर 1:30 बजे से पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला जाएगा. मुंबई में मिली 6 विकेट से हार के बाद अब भारतीय टीम पर सीरीज हारने का खतरा मंडरा रहा है.

विराट ब्रिगेड के लिए यह मैच अब ‘करो या मरो’ का हो गया है. टीम इंडिया को सीरीज में बने रहने के लिए पुणे वनडे में जीत दर्ज करनी ही होगी. वहीं न्यूजीलैंड की टीम पिछले वनडे में मिली जीत की लय को बरकरार रखते हुए पुणे में ही सीरीज सील करना चाहेगी.

कागजों पर न्यूजीलैंड की टीम भले ही टीम इंडिया से उन्नीस है, लेकिन कीवियों की यह युवा टीम मैदान पर किसी भी टीम को हराने का माद्दा रखती है और मुंबई में खेले गए मैच में उन्होंने साबित भी कर दिया. न्यूजीलैंड के बल्लेबाज रॉस टेलर और टॉम लाथम की पारी ने बाकी खिलाडियों को भरोसा दिया होगा.

 

 

पुणे में टीम इंडिया का रिकॉर्ड

पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में अभी तक टीम इंडिया ने 2 वनडे मुकाबले खेले हैं. इन दो मैचों में एक टीम इंडिया जीती है और एक में उसकी हार हुई है. साल 2013 में खेले गए वनडे में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 72 रनों से शिकस्त दी थी, वहीं इस साल जनवरी में खेले गए वनडे में इंग्लैंड को भारतीय टीम ने 3 विकेट से हराया था.

पिच का मिजाज

पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम की पिच पर स्पिन गेंदबाजों की मदद मिलने की उम्मीद है. पिछली बार जब यहां भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट मैच खेला गया था, तो स्पिन गेंदबाजों का दबदबा था.

हालांकि पुणे की पिच इतना टर्न नहीं करेगी जितना यह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैच में कर रही थी. जो भी टीम टॉस जीतेगी वह पहले गेंदबाजी करने का फैसला करना चाहेगी क्योंकि शाम को ओस मैच का आधा नतीजा तय कर सकती है.

टीम इंडिया

मेजबान भारतीय टीम मुंबई में फॉर्म में नहीं दिखी थी, लेकिन पुणे में वापसी करने का पूरा दम रखती है. विराट कोहली ने पिछले मैच में 31वां वनडे शतक जमाया लेकिन बाकी खिलाड़ियों से उन्हें सपोर्ट नहीं मिल सका.

शिखर धवन और रोहित शर्मा को ट्रेंट बोल्ट ने पवेलियन भेजा. अब इन दोनों को इस गेंदबाज की स्विंग और सटीकता का सामना करने के तरीके खोजने होंगे. भारतीय कप्तान अपनी लय बरकरार रखना चाहेंगे चूंकि बड़े स्कोर के लिए उनके बल्ले से रन निकलना जरूरी है.

कोहली ने जनवरी में इस मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ मैच जिताउ पारी खेली थी. चौथा नंबर टीम मैनेजमेंट के लिए चिंता का सबब बना हुआ है. अभी तक 2015 वर्ल्ड कप के बाद 11 बल्लेबाजों को आजमाया जा चुका है. केदार जाधव रविवार को चौथे नंबर पर उतरे लेकिन नाकाम रहे.

पांचवें नंबर पर आए दिनेश कार्तिक ने कप्तान कोहली के साथ 73 रन जोड़े लेकिन फिर अपना विकेट गंवा बैठे. पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी जब बल्लेबाजी के लिए उतरे तो 20 से अधिक ओवर बाकी थे, लेकिन वह 42 गेंद में 25 रन बनाकर आउट हो गए.

गेंदबाजी में युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव ने मिलकर 125 रन दे डाले और सिर्फ एक विकेट लिया. दोनों अपनी गलतियों को सुधारकर बेहतर प्रदर्शन करने उतरेंगे. उन्हें टॉम लाथम को स्वीप और रिवर्स स्वीप शॉट खेलने से भी रोकना होगा. तेज गेंदबाजों में कोई बदलाव की उम्मीद नहीं है.

न्यूजीलैंड

दूसरी ओर शानदार जीत के बाद न्यूजीलैंड के हौसले बुलंद होंगे. कप्तान केन विलियमसन हालांकि अभ्यास मैच और पहले वनडे में रन नहीं बना सके जो बड़ी पारी खेलना चाहेंगे.

मार्टिन गप्टिल और कोलिन मुनरो अच्छी शुरूआत को बड़ी पारियों में नहीं बदल सके थे और इस गलती को यहां सुधारना चाहेंगे. कीवी टीम मिशेल सेंटनेर के साथ ईश सोढी के रूप में दूसरा स्पिनर उतार सकती है.

बाएं हाथ के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट न्यूजीलैंड टीम के लिए असरदार साबित हुए थे. उन्होंने शुरुआती विकेट लेकर टीम इंडिया को बैकफुट पर पहुंचा दिया था. बाद में मिशेल सेंटनर ने मिडल ऑर्डर में अहम विकेट लेकर भारत को संभलने का मौका नहीं दिया था. टीम की गेंदबाजी एक बार फिर बोल्ट के इर्द-गिर्द घूमेगी. टिम साउदी के रूप में किवी टीम के पास एक और अच्छा गेंदबाज है जो भारतीय बल्लेबाजों को परेशान कर सकता है.

टीमें:

भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, अजिंक्य रहाणे, मनीष पांडे, केदार जाधव, दिनेश कार्तिक, एम एस धोनी (विकेटकीपर), हार्दिक पंड्या, अक्षर पटेल, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार और शार्दुल ठाकुर.

न्यूजीलैंड: केन विलियमसन (कप्तान), ट्रेंट बोल्ट, कोलिन डी ग्रैंडहोम, मार्टिन गप्टिल, मैट हेनरी, टॉम लाथम (विकेटकीपर), हेनरी निकोल्स, एडम मिल्ने, कोलिन मुनरो, ग्लेन फिलिप्स, मिशेल सेंटनर, टिम साउदी, रॉस टेलर, जार्ज वर्कर और ईश सोढी.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here