वार्डन छात्राओं से दबवाती थी अपने पैर

-बाल कल्याण समिति के सामने रो पडी छात्राएं -चाय में मिलवाई थी नशीली गोलियां, इसी के चलते बिगडी तबियत

0
194

 

गुडडू यादव

 

कासगंज। सहावर तहसील क्षेत्र के फरौली कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में हुई पफूड प्वाजनिंग के पीछे की कहानी आपको भी चौंका देगी। यहां बीते सोेमवार की शाम विद्यालय में 42 छात्राओ की चाय ब्रेड खाने पीने के बाद हालात खराब हो गई।  27 छात्राओ को प्राथमिक उपचार के बाद उनकी गंभीर हालत को देखते हुए 100 शैया संयुक्त जिला अस्पताल कासगंज में भर्ती कराया। जहां तीन छात्राओ की आज बुधवार को हालत बिगड गई इस पर उन्हें अलीगढ मेडिकल कॉलेज को भेज दिया गया है। घटना को लेकर बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष आशा राठौर की टीम पहुंची। इस टीम के सामने छात्राओं ने जो बताया वो हैरान करने वाला है। छात्रा हिमांशी ने बताया कि विद्यालय की पांच बहनें वार्डन सरिता वर्मा की गुलामी करती थीं, पैर दबाती थी, वार्डन मैम खुद छुटटी पर चली गई और इन्हीं बहनों से चाय में नशीली गोली डलवा दी। जिससे बहनों की हालत खराब हो गई। वार्डन मैम अन्य छात्राओ के साथ उत्पीड़न करती थी। रसोइया ललिता हाथ जोड़कर बुरी तरह फफक पड़ी। उसने कहाकि वार्डन मैंम खुद बच्चों से कराती हैं, और मुझ पर आरोप लगाती है। निरीक्षण के बाद आशा राठौर ने बताया कि वार्डन सरिता शर्मा हैं, जो कि बहुत बड़ी लीडर हैं, बच्चों और स्टाफ पर पूरा दबाब रखती हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here